कल्याण ओपन ओरिजिनल फाइनल

सौतेली बहन की चुदाई

सौतेली बहन की चुदाई, Aur hamara jo school dress hai uska last year ka jo top hai wo pehna karo kyuki white top hai aur last year wala hai to wo chhota bhi hoga to tumhare boobs jyada dikhenge. aur dekho ki kya wo tumhare boobs ko ghurta hai ki nahi mai sure hu ki wo jaroor tumhari boobs ko dikhne k try karega. pandit: aahhh.....meri rani.....meri pujaaran.....teri yoni kitni achchi hai....kitni sukhdaayi.....meri baasuri ko bahut maza aa raha hai....

और क्या ? आपने तो सारे कपड़े पहन रखे हैं और मुझे बिलकुल नंगा ....? वह तो बोलते बोलते फिर शरमा ही गई ...... मैंने कहा नहीं दीदी , मामू की शराब अगर पीयूँगा तो उन्हें पता चल जायेगा , मै रास्ते से ही लेता चलता हूँ और कोई सब्जी भी होटल से पैक करा लेते है , घर पर तुम और रज़िया ( छोटी बहन ) सिर्फ रोटी बना लेना

यह तो अंगूठे से दुगना मोटा है ! कहते हुए उसने मेरी आंखों में देखा और मेरा आधा लौड़ा अपने मुंह में ले लिया और चूसने की कोशिश करने लगी। फ़िर लण्ड को मुंह से निकाल कर बोली- कैसे चूसूँ? चूसा ही नहीं जा रहा ! सौतेली बहन की चुदाई अब तो मुझे भी उस पर तरस सा आने लगा था। वो जालंधर का रहने वाला था और मैं भी जालंधर के पास ही गाँव में रहती हूँ।

सेक्सी बातें करते हुए वीडियो

  1. सर झुका कर, दाँतों में उंगली डाल कर वो बोली : भीया कहते हैं कि लड़का लड़की का हाथ पकड़ कर मुँह से मुँह लगाता है तब बच्चा पैदा होता है.
  2. उस सीन के आने पर साक्षी पागल हो गई और मेरे लण्ड को पैंट के ऊपर से ही मसलने लगी। मैंने भी लैपटॉप उठा कर पैरों के तरफ कोने में कर दिया और कपड़ों के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ चलाने लगा, उसे चूमने लगा और उसके बड़े बड़े चूचों को दबाने लगा। पंजाबी सेक्सी फिल्म फुल एचडी
  3. चुप ! तुझे क्या पता कहीं फ्रेक्चर तो नहीं हो गया ? किसी डॉक्टर को क्यों नहीं दिखाया उसी समय ? मधु बिना किसी की बात सुने बोलती जा रही थी। पण मने तो मारा बूब्स ज मोटा करावा छे पिक्की तो ठीक छे ऐना वार मा जानी ने तमारे शु करवु छे ? (पर मुझे तो अपने चूचे ही बड़े करवाने हैं, पिक्की तो ठीक ही है उसके बारे में जानकर आपको क्या करना है?)
  4. सौतेली बहन की चुदाई...बुआ= क्यों नहीं भाभी मेरे शोहर की बहिन के एक लड़की है जो खुबसूरत तो है ही साथ में ही बहुत ही सलीके वाली भी है, Ab maine mere dono hatho se uske boobs ko sahlane laga wo kuch bol nahi pa rahi thi bas ankh band karke sirf dhire se bhiya bhaiya kar rahi thi aur thodi der bad wo boli bhaiya dhire se dabao dard hota hai.
  5. Maine thoda sa mud kar dekha toh papa meri hips ko dekh rahe theh……..halaki meri hips abhi exposed nahin thee…. दोनों टांगें को हाथों से पकड़ कर ऊपर तान दे और मोटा सा लंड गच्च से अन्दर ठोक दे या फिर …. मुझे कुत्ता बिल्ली आसन सबसे ज्यादा पसंद है।

डॉक्टरों का सेक्सी वीडियो एचडी

bhabhi:kyu taste acchi nahi hai kya!tumhare bhaiya to kahte hai ki bahut mitha hai aur maine to kitni baar is dudh se chai banai hai.

वो मेरे उपर ही घुटनों के बल बैठी रहीं और मेरे लौदे को और भी गरम करती रहीं, और जैसे मैं उनके चूत में अपनी उंगली घुमा रहा था मैं ने अपने गर्दन को आगे बढ़ाकर उनकी चुचि को अपने मुँह में लेने लगा. उनकी खूबसूरत, मै समझ गया कि दीदी अब नशे के साथ साथ गरम भी हो रही थी। मैंने फटाफट उनकी नाइटी उतार कर फ़ेंक दी। दीदी शायद नशे में भूल गयीं थीं कि उन्होंने चड्डी नहीं पहनी है।

सौतेली बहन की चुदाई,उन्होंने भी मेरी ब्रा और पैंटी निकाल दी और सिर्फ सैंडल छोड़कर मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया। वो दोनों मेरे मम्मों से खेल रहे थे और उंगली गांड में डाल कर कभी चूत में डाल कर मुझे सम्पूर्ण सुख दे रहे थे। लेखिका : वंदना (काल्पनिक नाम)

देवी और रोमा बेडरूम मे कपड़े चेंज करने चली गयी और रवि नेविस्की की बॉटल अंदर कुपकोआर्ड से निकल ली. तीनो म्यूज़िक सुनते हुएदोनो का इंतज़ार करने लगे. रोमा ने अपनी जीजी रीमा की अलमारी खोलकर 7-8 नाइटी बहार निकाल देवी की और उकचल कर कहा, लो पसंदकर लो कोई एक.

और अम्मी ने मुझे वही लेटा दिया और अलमारी से हेयर रिमूवर लाकर मेरे झांटे सफ्फ करने लगी मेरे लंड और गोलियों और गांड के छेददेवर भाभी सेक्सी ब्लू पिक्चर

तभी मैंने जमीलासे कहा कि वो पहले अपनी उंगली मेरी गांड में घुसाए क्योंकि उससे गांड मारने में आसानी होगी. से मसल दिया. लीना के मुहन से सिसकारी निकल गयी. उउईए माआ..... धीरे से. रवि ने आराम से उसकी चुचियो को सहलाने लगा. लीना अपने चूतड़ की

महसूस करने दो…..म्‍म्म्मममममम. मेरा लौदा उनकी चूत के बिल्कुल अंदर था, हमारी झाँतें बिल्कुल मिल गयी थी, उनकी चूत मेरे लॉडा के जड़ पर बैठी थी. म्‍म्म्मममम, वो बोली, …… झरोगे तो नही?

उनका वो अब मेरी जाँघों के बीच चुभता सा महसूस हो रहा था। उनकी साँसें बहुत तेज़ हो रही थी। मैं जानती थी अब वो पल आने वाले हैं जिसे मधुर मिलन कहते हैं। सदियों से चले आ रहे इस नैसर्गिक आनंददायी क्रिया में नया तो कुछ नहीं था पर हम दोनों के लिए तो यह दाम्पत्य जीवन का प्रारम्भ था।,सौतेली बहन की चुदाई ट्रेन कोई शाम को सात बजे की थी। सीट आराम से मिल गई थी। जब गाड़ी ने सीटी बजाई तो मैं उठकर चलने लगा। मिक्की के प्यार में भीगी मेरी आत्मा, मेरा हृदय, मेरा मन तो वहीं रह गया था।

News